अबॉर्शन (Abortion)

भ्रूण का जीवित अवस्था में गर्भाशय से बाहर आने से पहले, गर्भावस्था का अंत होना गर्भपात कहलाता है। जो गर्भपात अपने आप हो जाता है उसे मिसकैरेज कहते हैं। जो गर्भपात जानबूझकर किया जाता है उसे प्रेरित गर्भपात (Induced abortion) या कभी कभी प्रेरित मिसकैरेज भी कहा जाता है। गर्भपात शब्द का प्रयोग अकसर प्रेरित गर्भपात के लिए किया जाता है। समान प्रक्रिया में अगर भ्रूण गर्भ के बाहर जीवित रहता है तो उसे “गर्भावस्था की देर से समाप्ति” कहा जाता है।

मिसकैरेज (Miscarriage)

मिसकैरेज को स्वत: गर्भपात (Spontaneous abortion) या गर्भावस्था की विफलता (Pregnancy loss) भी कहा जाता है। इसमें भ्रूण की पैदा होने से पहले ही प्राकृतिक रूप से मृत्यु हो जाती है। मिसकैरेज का सबसे सामान्य लक्षण योनि से दर्द के साथ या दर्द के बिना रक्तस्राव होना है। दुख, चिंता और अपराध जैसी भावना अकसर इसके बाद महसूस होती है। ऊतक और खून क थक्के जैसा पदार्थ भी योनि से निकल सकता है। अगर किसी महिला को हर बार गर्भपात हो रहा है, तो ये बाँझपन की निशानी होती है।

पूर्ण गर्भपात (Complete abortion)

गर्भावस्था की सभी चीज़ों का निष्कासन पूर्ण गर्भपात कहलाता है।

भ्रूण हत्या (Criminal abortion)

गैर कानूनी तरीकों से गर्भावस्था की समाप्ति करना आमतौर पर जब कानूनी प्रेरित गर्भपात (Legal induced abortion) उपलब्ध नहीं है। इसके कारण गंभीर रक्तस्राव और घाव का सड़ना (Sepsis) जैसी जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है। उनमें भी कुछ लोग चिकित्सा सुविधाएं लेने में देरी कर देते हैं जिसकी वजह से इस प्रकार के गर्भवत में मृत्यु अधिक होती है।

आरंभिक गर्भपात (Early abortion)

गर्भावस्था के पहले 12 हफ्तों के भीतर गर्भपात करने को आरंभिक गर्भपात कहते हैं।

वैकल्पिक गर्भपात (Elective abortion)

जब माँ द्वारा चिकित्सकीय या अन्य कारणों से प्रेरित गर्भपात के लिए अनुरोध किया जाता है तो ऐसे गर्भपात को वैकल्पिक गर्भपात कहते हैं।

हैबिच्युअल अबॉर्शन (Habitual abortion)

गर्भावस्था के 20वें सप्ताह से पहले, तीन या अधिक बार लगातार स्वत: गर्भपात होना हैबिच्युअल अबॉर्शन कहलाता है।

अपूर्ण गर्भपात (Incomplete abortion)

जिस गर्भपात में गर्भाशय के अंदर ही भ्रूण की मृत्यु हो जाती है या वो गर्भाशय में ही रह जाता है उसे अपूर्ण गर्भपात कहते हैं।

अनिवार्य गर्भपात (Inevitable abortion)

यह एक ऐसी स्थिति जिसमें योनि से अत्यधिक रक्तस्राव होता है, झिल्लियां आमतौर पर फट जाती हैं, गर्भाशय ग्रीवा (Cervix) फैल जाती है और गर्भपात निश्चित रूप से कराना होता है।

संक्रमित गर्भपात (Infected abortion)

जब गर्भधारण के लिए जिम्मेदार चीज़ों से जननांग पथ में संक्रमण के कारण गर्भपात होता है और प्रतिक्रिया स्वरुप बुखार आता है तो ऐसे गर्भपात को संक्रमित गर्भपात कहते हैं।

(और पढ़ें – मूत्र मार्ग संक्रमण)

विफल गर्भपात (Missed abortion)

यदि भ्रूण 8 सप्ताह से अधिक के लिए गर्भाशय में मृत अवस्था में रहता है तो ऐसे गर्भपात को विफल गर्भपात कहते हैं।

सेप्टिक गर्भपात (Septic abortion)

जब गर्भधारण के उत्पादों या गर्भाशय के एंडोमेट्रियल अस्तर के गंभीर संक्रमण द्वारा गर्भपात होता है तो ऐसे गर्भपात को सेप्टिक गर्भपात कहते हैं। आमतौर पर यह आंत या योनि में संक्रमण के कारण होता है। 

(और पढ़ें – योनि में इन्फेक्शन के घरेलू उपाय)

चिकित्सीय गर्भपात (Therapeutic abortion)

जब गर्भपात कानूनी रूप से मां के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए एक योग्य चिकित्सक द्वारा किया जाता है तो ऐसे गर्भपात को चिकित्सीय गर्भपात कहते हैं।

संभावित गर्भपात (Threatened abortion)

गर्भावस्था के पहले 20 सप्ताह में होने वाले योनि रक्तस्राव के कारण जो गर्भपात का खतरा होता है उसे संभावित गर्भपात कहते हैं। कभी-कभी यह पेट में ऐंठन होने के साथ होता है। ये लक्षण बताते हैं कि गर्भपात संभव है, यही वजह है कि इस स्थिति को संभावित गर्भपात या संभावित मिसकैरेज भी कहा जाता है।

(और पढ़ें – लड़का पैदा करने के उपाय और गोरा बच्चा पैदा करने के उपाय से जुड़े मिथक)

Leave a Reply